मंगलवार, 4 नवंबर 2008

आप से मिल कर खुशी हुई

ब्लॉग्गिंग की दुनिया को मेरा सलाम
दोस्तों आज अपने आप को आप से मिला देख कर मेरा रोता हुआ दिल भी मुस्कुराने लगा है
कोशिश करूगा की आप को मेअपने दिल की बात जरूर बताऊ

ये दिल जिस पर निस्सार है
वो बिता हमराही
वो अब किसी और का प्यार है
बस अब उस की मीठी यादे है
रूह से वो मेरी है
बस जिस्म बेगाना है
प्यार किया है कुश मैंने
उसी का ये अफसाना है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें