शनिवार, 15 नवंबर 2008

पल पल की बात

कुछ पलो का प्यार ,
कुछ पलो का इंकार ,
कुछ पलो की जुदाई,
इन्ही पल - पल मे हमने जिन्दगी बिताई ,
कुछ लम्हों का प्यार ,
कुछ लम्हों का इकरार ,
कुछ लम्हों की जुदाई ,
कुछ - कुछ लम्हों मे ही अपनी हमने जिन्दगी बताई ........

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें