शनिवार, 29 नवंबर 2008

अकेले

गुजर चुकी है रात आधी ,
जहा मे सब सो रहे है ,
हम अकेले है बैठे है ,
तेरी याद मे आखो से बुँदे गिरा रहे है .........

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें