रविवार, 30 नवंबर 2008

चाँद


खुला दिल का मैदान ,
प्यार भरा आसमान ,
एक चमकता हुआ था चाँद ,
वो ही तो था मेरे महबूब की पहचान............

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें