रविवार, 16 नवंबर 2008

खुश

यारो कितना खुशनसीब हु मै ,
दम भरते थे जिसके प्यार का ,
वो खुश है अपने प्यार के साथ ,
पर उस मे मै कहा हु ....................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें