शनिवार, 15 नवंबर 2008

बेताब हु मे जलने के लिए ,
शंमा कहा है मेरी,
जिन्दगी से नफरत है इस कदर मुझे ,
ऐ - खुदा मौत कहा है मेरी ........

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें