गुरुवार, 20 नवंबर 2008

वो गली वो कूचा हमे भी बता दो ,
वो किस्सा वफ़ा का हमे भी सुना दो ,
कुछ देर को हम अपना गम भूल जायगे ,
दोस्त हमे भी अपने दोस्तों मे जगह दो

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें