मंगलवार, 4 नवंबर 2008

vakt

वक्त गुजरता रहा
हमराही हमे भूलते रहे
आज वक्त का वो मुकाम है
हम ख़ुद को भूल चले है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें