बुधवार, 3 दिसंबर 2008

दिल तो पागल है

आपकी यादो का ही तो सहारा है ,
वरना हम तो तनहा रह जाते ,
शुक्रिया आप का जो आपने ये हमे दी ,
वरना हम तो कब के मर जाते ,
न जाने कब से इंतजार कर रही है मेरी निगाहे ,
दिल तो पागल है मेरा ,
जो हर वक्त देखती रहती है तुम्हारी राहे..............................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें