शुक्रवार, 26 दिसंबर 2008

सोचा नही अच्हा बुरा ,
देखा सुना कुछ भी नही ,
मागा खुदा से रात दिन ,
तेरे सिवा कुछ नही ,
तेरे सिवा कुछ नही, कुछ नही ,कुछ नही

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें