शुक्रवार, 19 दिसंबर 2008

दिल का दर्द जब कागजो पर आता है ,
तो आसू भी दरिया बन जाते है ,
दिल टूटने की आवाज भी नही आती,
और सारा दर्द गजल बन जाता है
..................................अमित

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें