शनिवार, 20 दिसंबर 2008

आसू की गर्मी की आहट नही होती ,
दिल के टूटने की आवाज नही होती ,
अगर होता खुदा को अहसाश दर्द का ,
तो उसे दर्द देने की आदत न होती .......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें