शुक्रवार, 26 दिसंबर 2008

इंकार के डर से कभी इज़हार न कर सके ,
यारो जिन्दगी मे हम कभी प्यार न कर सके

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें