शुक्रवार, 19 दिसंबर 2008

पागलपन ---------------- जब आदमी इस समाज से जयादा समझ दार हो जाए और समाज की हर चालाकी को समझता जाए तो समाज उसे पागल घोषित कर देता है / आओ आप को एक भूले हुए पागल से मिलाय / जिसे आप पढ़ रहे है उस पागल को पागलखाने का रास्ता दिखाए /आज उसे समझ आया ....अपनों का दबाव, जिसने उस की जिन्दगी को बिखरा दिया ,सब का अपना अपना मतलब था ,अपनी अपनी खवाइश ..................................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें