मंगलवार, 30 दिसंबर 2008

ज़माने को दिखलाने के लिए मुस्कराता रहा वो ,
तेरी बेवफाई के दर्द को चुपचाप सीने मे अपने ,
दफनाता रहा वो ............................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें