शुक्रवार, 26 दिसंबर 2008

आरजू

आरजू नही है हमारी ,
की किसी को रुलाये हम ,
बस इतना ही जिन्दगी मे काफी है ,
किसी को कभी ,
किसी पल याद आए हम ........

1 टिप्पणी: