गुरुवार, 1 जनवरी 2009

काश उपर वाले ने जुदाई ना बनाई होती ,
न आप हमसे मिलते ,
न जुदा होते ,
जिन्दगी जो अब तक ,
अपनी थी ,
परायी न होती................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें