शनिवार, 17 जनवरी 2009

जानते हो कुवारी लड़की , बस का कंडक्टर , और एक आलसी क्या बोले ?

एक कुंवारी लड़की की प्रार्थना : हे प्रभो, मैं अपने लिए कुछ नहीं मांगती, लेकिन कृपा करके मेरी मां को दामाद दे दो।''


बस के गेट पर लटके हुए मुसाफिरों से कंडक्टर ने कहा : भाइयो, अंदर हो जाओ। इस तरह गेट पर लटकना आपकी जान के लिए खतरनाक है। लेकिन जब कोई भी अंदर न हुआ तो कंडक्टर गुस्से में बोला : तुम्हें तुम्हारी पत्नी की कसम अंदर हो जाओ! इतना सुनना था कि जो मुसाफिर सीटों पर बैठे थे वे भी गेट पर आकर लटक गए।


एक आलसी से मित्र ने कहा : सुना है, तुम फौज में भरती हो रहे हो ? आलसी : अरे नहीं, मुझे तो यह भी पता नहीं कि बंदूक का मुंह किधर रखकर चलाते हैं।मित्र : इसमें क्या है ? तुम बंदूक का मुंह किधर भी रखकर चलाओ, देश का भला ही करोगे।

1 टिप्पणी: