शुक्रवार, 9 जनवरी 2009

आज हम हैं कल हमारी यादें होंगी

आज हम हैं कल हमारी यादें hogi
आज हम हैं कल हमारी यादें होंगी ,
जब हम ना होंगे तब हमारी बातें होंगी ,
कभी पलटोगे जिंदगी के ये पन्ने ,
तब शायद आपकी आंखों से भी बरसातें होंगी
..............

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें