गुरुवार, 1 जनवरी 2009

हाल - ऐ - दिल किसी को बया न करना ,

चाहे गम मिले हजारो ,

पर किसी के आगे आँखे नम न करना .........

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें