शुक्रवार, 2 जनवरी 2009

अकेले बैठ अकेलेपन मे अकेला साज बजाया,
अकेले बैठ अकेलेपन मै साज के साथ गुनगुनाया ,
अकेले बैठ अकेलेपन मे सुना ,
अकेले बैठ अकेलेपन मे दिल ,
आँखों के रास्ते खूब रोया ,
फ़िर अकेलेपन मे अकेला ही सो गया .......................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें