मंगलवार, 6 जनवरी 2009

फूलो की बस्ती , दिल मे मस्ती

काटो से गुजर जाना ,
शोलो से निकल जाना ,
फूलो की बस्ती मे जाना तो सभल जाना ,
काटा अगर चुभेगा तो सिर्फ़ दर्द होगा ,
फूल अगर लगेगा तो दिल मे शूल सा चुभेगा ................................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें