गुरुवार, 29 जनवरी 2009

चुटकला नम्बर ३

दो शायर मित्र घर में बैठे बड़ी देर से शेर-ओ शायरी किये जा रहे थे!जिस शायर का घर था ,उसकी पत्नी बड़ी देर से बर्दाश्त कर रही थी और गुर्रा भी रही थी !थोडी देर बाद मेहमान शायर बोला -” मित्र !एक शेर याद आ रहा है! कहो तों सुनाऊ?”मेजबान शायर ने कहा -” नही रहने दो और घर जाओ ,क्योकि इधर से शेरनी आ रही है !”

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें