शनिवार, 3 जनवरी 2009

डरना

साफ जाहिर है निगाहों से कि हम पर मरते हैं,
मुंह से कहते हुये ये बात मगर डरते हैं .......................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें