गुरुवार, 2 अप्रैल 2009

दर्द दिल का शायरी -10

हर शब् प्यारी तेरी याद ,
चाहे दिन हो या हो रात ,
कभी हसती है कभी रुलाती है ,
हर लम हा तेरी ही बात ,
आँखों मे तेरे सपने ,होठो पर तेरी बात ,,
इंतज़ार मे बाई थे हम ,लेकर मिलने की फरियाद

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें