गुरुवार, 2 अप्रैल 2009

दर्द दिल का शायरी -12

जिसे दिल की कलम और मोहोब्बत की इंक कहते हैं
जिसे लाब्जो की किताब और यादो का कवर कहते हैं
हां यार, ये वो ही विषय हैं दोस्तो
जिसे लोग शायरी कहते हैं

प्यार एक अन्त्रगता है
एक विशवास है
जीवन के लिए सार्थक प्रेरणा हैं
प्यार बन्धन नहीं मुक्ति हैं
त्याग नहीं तपस्या हैं

मेरे मरने के बाद व मुझे जलाने से पहेले
मेरे इस दिल को निकाल लेना वरना इसमें
जो बसे है वो भी साथ में जल जायेंगे

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें