रविवार, 5 अप्रैल 2009

मेरे दिल का दर्द शायरी मे -2

जनाजा रोककर वो मेरे से इस अन्दाज़ मे बोले,
गली छोड्ने को कही थी हमने तुमने दुनियां छोड दी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें