रविवार, 5 अप्रैल 2009

मेरे दिल का दर्द शायरी मे -5

तुम क्या मिले कि फैले हुए गम सिमट गये,
सदियों के फासले थे जो लम्हो मे कट गये।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें