रविवार, 5 अप्रैल 2009

मेरे दिल का दर्द शायरी मे -6

आता नही हमको राहें वफा दामन बचाना,
तुम्ही पर जान दे देगें एक दिन आज़मा लेना।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें