बुधवार, 1 अप्रैल 2009

मेरे शायरी -7

हमे तो उसने ऐसे ही बना दिया ,
लगता है आपको बनने में अपना सब कुछ लुटा दिया ,
दीवाने हम न थे किसीके ,
लेकिन लगता है आपने आज बना ही दिया ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें