रविवार, 5 अप्रैल 2009

मेरे दिल का दर्द शायरी मे -8

गुज़री है रात आधी सब लोग सो रहे हैं,
यहां हम अकेले वैठे तेरी याद मे रो रहे हैं ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें