गुरुवार, 2 अप्रैल 2009

दर्द दिल का शायरी -9

तेरे बिना हम जीना भूल जाते है ,
ज़ख्मों को सीना भूल जाते है ,
तू ज़िन्दगी में सबसे अज़ीज़ है हमे ,
तुजसे हर बार यह कहना भूल जाते है ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें