रविवार, 5 अप्रैल 2009

मेरे दिल की शायरी

खुदा जाने मोहबत का क्या दस्तूर होता है,
जिसे मै दिल से चाहता हूँ वही मुझ से दूर होता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें