सोमवार, 13 अप्रैल 2009

प्रेमिका का पति!

प्रेमी : तो पक्का है न कि हम आज रात 2 बजे शहर छोड़कर भाग जाएंगे।
तुम लेट मत होना।
प्रेमिकाः तुम फिक्र मत करो ,
मेरे पति मेरा सामान बाँध रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें