गुरुवार, 23 अप्रैल 2009

नाकाम इशक मेरा

जज्बात इश्क नाकाम न होन देंगे हम
कभी शाम न होने देंगे हम
दोस्त हर इल्जाम खुद पर ले लेंगे
पर तुम्हें बदनाम न होने देंगे हम ....................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें