गुरुवार, 2 अप्रैल 2009

दर्द दिल का

दुनिया हज़ार जुल्म करे उसका गम नही होता,
मारा जो तुमने फूल तो वो पत्थर से कम नही होता।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें