रविवार, 5 अप्रैल 2009

मेरे दिल का दर्द शायरी मे

जो गिर गया उसे और क्यों गिराते हो,
जलाकर आशियाना उसी की राख उडाते हो ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें