गुरुवार, 2 अप्रैल 2009

दर्द दिल का

तुम अपने दोस्तों के जरा नाम तो बता दो,
मै अपने दुश्मनो की तदाद तो समझ लूं ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें