गुरुवार, 7 मई 2009

दर्द की शायरी -15

जब कोई दिल टूट जाता है तो वो जिस्म रह जाता है ,
रूह निकल जाती है ,
जिस तरह मुरझाने के बाद फूल तो रह जाता है ,
पर उसकी खुशबू निकल जाती है ...........................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें