शनिवार, 2 मई 2009

दर्द दिल का -3

दिल को दीवाना किया, आँखों को हैराँ कर दिया
हुस्न बन कर उसने ने जब ख़ुद को नुमायाँ कर दिया.........

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें