रविवार, 3 मई 2009

दिल का दर्द (अमित)- 6

दर्द को हमदर्द न मिला ,
मुझ को मौत न मिली ,
इस लिए
दर्द को क़ैद किया
मुझे को आज़ाद किया ,
हम से जिस तरह बना ,
हम ने तुझे याद किया

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें