शुक्रवार, 1 मई 2009

किस्मत ही खराब ह.......

एक शराबी आधे घण्टे से शराब का प्याला सामने रखकर उसे घूरे जा रहा था। उसी बार में मस्तमौला बंता भी बैठा हुआ था।
उसे मजाक सूझा।
वह उठा और
उसने शराबी के सामने रखा हुआ जाम एक ही सांस में खाली कर दिया।
यह देखकर शराबी रोने लगा।
बंता - रो मत यार!
तू काफी देर से चुपचाप बैठा हुआ था इसलिए मैंने तो मजाक किया था।
चल मैं तेरे लिए दूसरा गिलास मंगा देता हूं...
शराबी - मैं शराब के लिए नहीं रो रहा हूं।
मैं तो अपनी किस्मत को रो रहा हूं।
आज का दिन मेरी जिंदगी का सबसे बुरा दिन है।
आज मैं देर से ऑफिस पहुंचा तो बॉस ने नौकरी से निकाल दिया।
बाहर आया तो देखा मेरी गाड़ी चोरी हो चुकी थी।
किसी तरह घर पहुंचा तो पता चला कि मेरी बीवी मेरा सारा पैसा और सामान लेकर अपने प्रेमी के साथ चंपत हो चुकी थी।
आखिर में मैं इस बार में आया और आत्महत्या करने की सोच ही रहा था कि तुम आ गए और मेरा जहर मिला शराब का गिलास पी गए...।
सचमुच मेरा तो दिन बहुत ही खराब है...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें