शुक्रवार, 29 मई 2009

शादी की उम्मीद


एक गधा ( दूसरे गधे से )- यार मेरा मालिक बहुत मारता है।
दूसरा गधा ( पहले से )- तो तू भाग क्यों नहीं जाता ?
पहला गधा - भाग तो जाता पर यहां भविष्य बहुत उज्ज्वल है।
मालिक की खूबसूरत बेटी जब शरारत करती है
तो मालिक कहता है तेरी शादी गधे से कर दूंगा ,
बस इसी उम्मीद में बैठा हूं।.............................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें