शुक्रवार, 1 मई 2009

झूठ...

घर में प्रवेश करते ही संता ने देखा, उसके दोनों बेटे आपस में बहस कर रहे थे... संता ने पूछा, किस बात पर बहस कर रहे हो...? एक बेटा बोला, पापा, हमें सौ रुपये का नोट पड़ा मिला... हमने तय किया है कि जो सबसे बड़ा झूठ बोलेगा, सौ रुपये उसी के... संता ने अफ़सोस जताते हुए कहा, तुम लोगों को शर्म आनी चाहिए... जब मैं तुम्हारी उम्र का था, तो जानता भी नहीं था कि झूठ क्या होता है...? बेटों ने बिना कुछ बोले सौ रुपये का नोट संता को दे दिया..

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें