मंगलवार, 23 जून 2009

अमित की शायरी -6

तेरा गम ,तेरी याद ,
जीने को और क्या चाहिए

तेरी उम्मीद ,तेरी फरियाद ,
जीने को और क्या चाहिए

तेरी दुआ , तेरे जज्बाद ,
जीने को और क्या चाहिए

तेरे तोहफे ,तेरी सौगात ,
जीने को और क्या चाहिए

तेरी हँसी ,तेरी वो बात ,
जीने को और क्या चाहिए

तेरी मोहब्बत ,तुझसे मुलाक़ात ,
जीने को और क्या चाहिए

तेरी वफ़ा ,तेरा वो साथ ,
जीने को और क्या चाहिए

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें