मंगलवार, 9 जून 2009

मेरा प्यार कही क्यो खो गया /

में तमाम कोशिशों के बावजूद हार गया
वो उसे मिल गई जिसने उसे माँगा ही नाहीं
हर एक से पुछा तेरा न मिलने का सुबुब
हर एक ने कहा वोह तेरे लिए बनी ही नही

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें