गुरुवार, 11 जून 2009

मेरा दिल तोडा अब सजा भुगतो ...

क्या हुआ जो उसने रचा ली मेहँदी ,
हम भी अब शेहरा सजायेंगे ,
मुझे पता था की वो अपने नसीब मैं नही ,
अब उसकी छोटी बहन को पटायेंगे ....\\\\

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें