रविवार, 28 जून 2009

महकते पल

आ सितारों से आगे चल
आ बहारों को थामे चल
ले ले यूँ अंगडाईयां
बजने लगे शहनाईयां
हर पल गाती ज़िन्दगी
पल पल महकते पल
चाँद तेरे घूँघट को ओढे
आने जाने लगा
सारी रात वो शर्माता छिपा
हर पल गाती ज़िन्दगी
पल पल महकते पल
आ सितारों से आगे चल
आ बहारों को थामे चल
ले ले यूँ अंगडाईयां
बजने लगे शहनाईयां
हर पल गाती ज़िन्दगी
पल पल महकते पल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें