गुरुवार, 11 जून 2009

झूठे आंसू

तेरी खूबसूरत आंखों में आंसू अच्छे नहीं लगते
चाहे जितना भी रोये पर कभी सच्चे नहीं लगते

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें