मंगलवार, 16 जून 2009

जान छोड़ो

एक विद्यार्थी बहुत देर से गणित के प्रश्न हल करने की कोशिश कर रहा था।
पहले प्रश्न में ही वह अटक गया।
सब विद्यार्थी अपने अपने प्रश्न दिखाकर चले गए पर उसे छुट्टी नहीं मिली।
जब बहुत देर हो गई तो अध्यापक ने उसकी अभ्यास पुस्तिका देखी
और कहा, "तुम्हारा उत्तर अभी भी ठीक नहीं है।
इसमें अब भी २५ पैसे कम हैं।"
विद्यार्थी ने २५ पैसे अपनी जेब से निकालकर अध्यापक महोदय को देते हुए कहा, "लीजिए सर, और मेरी जान छोड़िए।"

1 टिप्पणी: